Sunday, July 25News That Matters
Shadow

Hastmaithun-हस्तमैथुन करते टाइम 9 गलती , जोश जोश में कर देते लड़के

Hastmaithun क्या है?

Hastmaithun करने का क्या मतलब है,अपने शरीर के अंगों को इस तरह से छूना,सहलाना। जिससे आपको आनंद महसूस हो। इसे आप तब तक करते हैं जब तक आप पूरी तरह उत्तेजित ना हो जाए।

hastmaithun
Photo credit- Dr Mahinder Watsa

हस्तमैथुन Hastmaithun भी एक तरह की बीमारी है जिसमें लड़के अपना तनाव दूर करने के लिए हस्तमैथुन करते है । ज्यादा करने से ये हमारे शरीर और लिंग दोनो को ही बहुत नुकसान देता है। हस्तमैथुन करते हुए कभी कभी हम लिंग और चोट का शिकार बन जाते हैं।लेकिन ये हमें गलत तरह से हस्तमैथुन करने के कारण होता है।

अगर तुम हस्तमैथुन करते हो तो इन बातों का जानना आपका बहुत जरूरी है। ताकि आप अपने लिंग को मजबूत और स्वस्थ रख सके। इन सब बातो को ध्यान में रखते हुए ।हस्तमैथुन करते टाइम होने वाली गलतियौ के बारे में बताएंगे।

गलत तरह से हस्तमैथुन करने के नुकसान

The wrong way to हस्तमैथुन

उल्टी सीधी तरह से हस्तमैथुन करने से एक नही बेशुमार नुकसान होते हैं। कई बार मामला बहुत गंभीर हो जाता है।इन सब से होने वाली गलतियों को देखते है।

1-लिंग फ्रेक्चर ( Panis Fractute)

कभी कभी जोश में हम अपना होश तक भूल जाते हैं। जिससे हमारा लिंग टूट जाता है। दुनिया में लगभग 60 प्रतिशत गलत हस्तमैथुन करने से इस बीमारी का शिकार हो जाते हैं ।

2-पेनिस संक्रमण( Penis Infection)

लोगो के दिमाग में इक बात रहती  है कि संक्रमण बस सेक्स करने से ही होता है । जबकि ऐसा नहीं है । गलत तरह से हस्तमैथुन करने से भी पेनिस संक्रमण हो जाता है। जैसे कि लिंग पर खुजली या और तरह की दिक्कत आना।

3-लिंग सूजन( Penis Swelling)

गलत तरह से हस्तमैथुन करने से लिंग सूजन का भी शिकार हो जाते है। जिससे हमारे लिंग मै दर्द या पैसाब करते समय बहुत परेशानी होती है

हस्तमैथुन करते समय होने वाली गलतियां-:

1-लिंग को पूरी तरह खड़ा न होने देना

ना समझ ही नही समझदार लड़के भी लिंग को पूरी तरह तनाव में आते बिना ही हस्तमैथुन करने लगते हैं। ऐसा करने से लिंग में ढीलापन रहता है । जिसकी वजाह से वो कहीं भी मुड़ जाता है और चोटिल हो जाता है। इससे लिंग पर बहुत ही बुरा असर होता है

2– लिंग को तेजी से रगड़ना

सेक्स नाम सुनते ही शरीर में गुदगुदी सी होने लगती है। ये हस्तमैथुन जैसा काम धीरे धीरे करना चाहिए। लेकिन बहुत लोग तेजी से लिंग को पकड़ कर खींचते ,रगड़ते या तकिए से दबाते है। ऐसा करने से लिंग छिल जाता है। जिससे लिंग में सूजन आ जाता है । दर्द होने लगता है।

3-लिंग को किसी चीज में डालना

अधिकतर सर्वे में ये पाया गया है। लड़का हस्तमैथुन करते वक्त अपने लिंग को किसी बोतल या इसी तरह के किसी सामान में डाल कर हस्तमैथुन करते है। जो की बहुत ही खतरनाक हो सकता है।ऐसा करने से बचे।

4-नहाते समय हस्तमैथुन करना

जब किसी काम को हम बहुत जल्दी करते हैं। तो वो 99 प्रतिशत खराब ही होता है। ठीक इसी तरह जब हम नहाने जाते हैं। तो हम थोड़ा जल्दी में होते है। इसी बीच हम हस्तमैथुन कर देते हैं। जिससे संक्रमण फैलने का खतरा तो होता ही है। जल्दी की वजह से हस्तमैथुन करना भी नुकसानदाह हो सकता है।

5- साबुन या शैम्पू लगाकर हस्तमैथुन करना

आजकल हस्तमैथुन को फुल एंजॉय Full Enjoy करने और मजा दोगुना करने के लिए लोग साबुन या शैम्पू का इस्तेमाल करते हैं।लेकिन ये लिंग के किए हानिकारक होता है।

6-लिंग साफ करते समय गंदे कपड़े या पानी का उपयोग

हस्तमैथुन करने के बाद सभी अपने लिंग को साफ करने के लिए पानी का इस्तेमाल एकदम कर लेते हैं। जिससे लिंग की नस गर्म होती हैं।और ठंडा पानी लगने से लिंग पर बहुत नुकसानदाह हो सकता है।जो लोग रात में  बिस्तर पर हस्तमैथुन करते हैं। और सो जाते हैं तो इससे कपड़ों के संक्रमण फैलने शुरू हो जाता है।।

7-अंडरवियर ना बदलना

हस्तमैथुन करने के बाद बहुत लड़के अंडरवियर बिना बदले ही सो जाते हैं। ऐसा करना लिंग के लिए बहुत ही घातक हो सकता है।

Hastmaithun Kaise Chhode – हस्तमैथुन से छुटकारा कैसे पाये

यदि आपको Hastmaithun की आदत लग गई है। और आप इससे बहुत दूर यानी छुटकारा पाना चाहते हैं। तो इसका सबसे अच्छा तरीका है Meditation। जिसे हिंदी में विचार करना या ध्यान लगाना कहते हैं। और साथ ही योगा कर सकते हैं। Workout कर सकते हैं। आपको daily walk करनी चाहिए। अपने दोस्तों और परिवार के साथ समय बिताना चाहिए। आपको सुबह या शाम को टहलने के लिए जाना चाहिए।


जितना हो सके तो आपको अपने जीवन के लिए एक Goal Set कर लेना चाहिए। उसे पाने के लिए खूब मेहनत करनी चाहिए। अगर आप और हम सब ऐसा करते हैं तो जरूर इस Hastmaithun जैसी लत से छुटकारा पा लेंगे।

ये भी पढ़ें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *