बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

Monkeypox: देश में मंकीपॉक्स वाइरस से कितने मरीज़ो की मौत,जानें-क्या है लक्षण और बचाव के तरीके

Monkeypox Infection in hindi: मंकीपॉक्स नाम के वाइरस से होने वाले वायरल संक्रमण को मंकीपॉक्स कहा जाता है, जो पहली बार वर्ष 1970 में कांगो देश में देखा गया था। इस लेख में जानें मंकीपॉक्स क्या है ? कैसे फैलता है ? और मंकीपॉक्स का इलाज क्या है।

Monkeypox Latest News :

चौंकाने वाला मामला सामने आया ! एक शख्स को हुआ एक साथ हुआ मंकीपॉक्स, HIV और कोविड-19

इटली में एक दुर्लभ मामला सामने आया है, जिसमें व्यक्ति की एक ही समय पर मंकीपॉक्स , Covid-19 और HIV की रिपोर्ट सामने आई हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक, यह मामला काफी अनोखा है, जो कि पहली बार सामने आया है । वैसे तो व्यक्ति की मंकीपॉक्स और Covid-19 की रिपोर्ट अब नेगेटिव आ गई है.

France: मंकीपॉक्स का पहला अनोखा केस मिला, इंसान के संपर्क में आने पर कुत्ता संक्रमित

Monkeypox Latest News :

दुनियाभर में मंकीपॉक्स का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, इस साल अब तक 80 देशों में 20 हजार से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। इस बीच फ्रांस (Franc)की राजधानी पेरिस (Peris)  में मंकीपॉक्स का एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. यहां इंसान के जरिए मंकीपॉक्स का वायरस एक कुत्ते तक पहुंच गया है।

Monkeypox News Today :

WHO का अनुमान है कि सबसे अधिक जोखिम वाले लोगों की रक्षा के लिए 10 मिलियन खुराक की आवश्यकता होगी, वर्तमान में कुछ ऐसे पुरुषों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा जो पुरुषों के साथ यौन संबंध (SEX Relation) रखते हैं और संक्रमित लोगों के संपर्क में आते हैं। अन्य विशेषज्ञों का कहना है कि एक समान वैश्विक प्रतिक्रिया भी अफ्रीका के 11 देशों में उच्च जोखिम वाले लोगों की एक अनिर्धारित संख्या को प्राथमिकता देगी जहां बंदर वर्षों से सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या रही है।

मंकीपॉक्स का प्रकोप ( Monkeypox Outbreak ) –

Outbreak of Monkeypox – देशभर में Monkeypox Cases के मामले धीरे-धीरे बढ़ रहे हैं, जिसको लेकर सभी चिंतित हैं। भारत में अब तक Monkeypox Cases के कुल 9 मामले सामने आ चुके हैं। जिसमें में से 5 case केरल और 4 case  दिल्ली में मिले हैं. WHO के अनुसार, मंकीपॉक्स में विश्व स्तर पर फैलने की क्षमता है और इस बीमारी से भारत में एक मरीज की मौत हो चुकी है. तो आइए बताते हैं इस वायरस के बारे में  जरूरी बातें जो आपको जाननी चाहिए।

Monkeypox किसे प्रभावित करता है?

जबकि अधिकांश मामले Africa में 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में हैं, किसी भी आयु वर्ग में किसी को भी मंकीपॉक्स रोग हो सकता है।  Africa के बाहर, पुरुषों के साथ यौन संबंध रखने वाले पुरुषों में यह बीमारी अधिक आम है।  हालांकि, इस वर्ग में नहीं आने वाले व्यक्तियों में कई मामले देखे जाते हैं।

Monkeypox Rash Pictures/Monkeypox Pictures

monkeypox rash pitchers HindiWallah
Image Source: epfguide.com

मंकीपॉक्स क्या है ( What is Monkeypox in Hindi )-

मंकीपॉक्स वर्ष 1958 में लैब के कई बंदरों में पाया गया था और उसी के आधार पर इसका नाम Monkeypox पड़ा था । यह एक zoonotic viral infection है, जिसका मतलब है कि यह जानवरों से मनुष्यों में भी फैल सकता है। यह भी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भी फैल सकता है। जबकी, मनुष्यों में यह पहली बार यह  साल 1970 में कांगो देश (Congo Country) के एक 9 महीने के बच्चे में पाया गया था। कांगो में चेचक (Monkeypox  का करीबी वायरस) साल  1968 में खत्म हो चुका था।

मंकीपॉक्स के लक्षण  (monkeypox symptoms) आमतौर पर इससे पहले चेचक में हुए लक्षणों के साथ मिलते-जुलते हैं, जो  साल 1980 में पूरी दुनिया से खत्म कर दिया गया था। साल  2003 में पहली बार मंकीपॉक्स का प्रकोप अफ्रीका के बाहर अमेरिका में देखा गया था और यह मामला संक्रमित प्रैरी डॉग (infected prairie dog) के पालने से जुड़ा था। Prairie dog एक खास प्रकार का रोडेंट Rodent (चूहा गिलहरी आदि कतरने वाले जानवर) है, जो चूहों और गिलहरी की श्रेणी में आता है। ज्यादातर जानवर monkeypox virus से संक्रमित होने के प्रति काफी संवेदनशील होते हैं और फिर उनसे मनुष्यों में फैल जाता है। इन जानवरों में प्रमुख रूप से Rodent ही आते हैं जैसे चूहे, गिलहरी आदि।

CDC Monkeypox /Monkeypox CDC

Monkeypox Disease-: Centers for Disease Control (CDC Monkeypox) के अनुसार मंकीपक्स एक दुर्लभ बीमारी है जो मंकीपक्स वायरस के संक्रमण से होती है।मंकीपॉक्स वायरस (Monkeypox Virus ) वैरियोला वायरस (variola virus) के वायरस के एक ही परिवार का हिस्सा है, वह वायरस जो चेचक का कारण बनता है। मंकीपॉक्स के लक्षण चेचक के लक्षणों के समान होते हैं, लेकिन हल्के, और मंकीपॉक्स शायद ही कभी घातक होते हैं। मंकीपक्स का चिकनपॉक्स (chickenpox) से कोई संबंध नहीं है,(monkeypox and chickenpox) ।

मंकीपॉक्स के लक्षण ( Monkeypox Symptoms in Hindi )-

  • बुखार
  • ठंड लगना
  • थकावट
  • सूजी हुई लसीका ग्रंथियां
  • मांसपेशियों में दर्द और पीठ दर्द
  • सिरदर्द

जब किसी व्यक्ति को बुखार, मांसपेशियों में दर्द,पीठ में दर्द, गंभीर सिरदर्द, ऊर्जा की कमी महसूस होना, त्वचा पर चकत्ते व घाव होना और  लिम्फ नोड्स में सूजन आदि मंकीपक्स से सबसे आम लक्षण होते हैं। किसी व्यक्ति के मंकीपक्स से संक्रमित व्यक्ति को बुखार होने के एक या तीन दिन के भीतर त्वचा पर चकत्तों  (शरीर पर उभरे छोटे-छोटे लाल दाने; चकत्ते) के लक्षण दिखने लग जाते हैं। त्वचा पर होने वाले घाव सपाट या पहले से थोड़े उभरे हुए हो सकते हैं और ये घाव साफ या हल्के पीले रंग (Yellow Color)  के द्रव से भरे हो सकते हैं। मंथर गति से  इन घावों के ऊपर से पपड़ी बन जाती है, जो धीरे – धीरे सूख कर गिर जाती है।

Skin पर बनने वाले घावों की संख्या हर व्यक्ति में अलग-अलग होती है और इनकी संख्या  1-2  से लेकर हजारों तक जा सकती है। Monkeypox  से ग्रसित व्यक्ति की त्वचा पर चकत्ते   (शरीर पर उभरे छोटे-छोटे लाल दाने)  शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकते हैं, लेकिन ज्यादातर मामलों में हथेली , चेहरे और पैर के तलवों पर देखे जाते हैं। वहीं कुछ मामलों में मरीजों को ये जननांगों, आंखों  और मुंह  पर भी देखे जा सकते हैं।

मानव मंकीपॉक्स ( Human Monkeypox )-

Monkeypox आमतौर पर एक दाने के साथ एक स्व-सीमित वायरल संक्रमण है जो दर्दनाक हो सकता है। ज्यादातर लोग कुछ हफ्तों के बाद अपने आप ठीक हो जाते हैं। कुछ परिस्थितियों में, लोग बहुत बीमार हो सकते हैं और उनकी मृत्यु भी हो सकती है। आम तौर पर लोग मंकीपॉक्स वायरस ( Monkeypox Virus ) के संपर्क में आने के 5 से 21 दिनों के बाद लक्षण विकसित करते हैं।

मंकीपॉक्स संकेत और लक्षण ( Monkeypox Signs and Symptoms )-

Monkeypox Infection से लक्षणों  Monkeypox Symptoms की शुरुआत तक आमतौर पर 6 से 13 दिनों तक होती है, परंतु यह 5 से 21 दिनों तक हो सकती है।

Signs of Monkeypox संक्रमण के साथ शुरू होता है:

  • सिरदर्द
  • बुखार
  • थकावट
  • पीठ दर्द
  • ठंड लगना
  • मांसपेशियों के दर्द
  • सूजी हुई लसीका ग्रंथियां

Monkeypox  Infection को दो अवधियों में विभाजित किया जा सकता है:

आक्रमण अवधि ,0-5 दिनों के बीच रहती है, तीव्र सिरदर्द, बुखार, लिम्फ नोड्स की सूजन, पीठ दर्द, मांसपेशियों में दर्द और तीव्र अस्थि (ऊर्जा की कमी) द्वारा विशेषता है। लिम्फैडेनोपैथी अन्य बीमारियों की तुलना में monkeypox  की एक विशिष्ट विशेषता है जो शुरू में समान दिखाई दे सकती है (चिकनपॉक्स, खसरा, चेचक)

त्वचा का फटना आमतौर पर बुखार दिखने के 1-3 दिनों के भीतर शुरू हो जाता है। दाने धड़ के बजाय चेहरे और हाथ-पांव पर अधिक केंद्रित होते हैं। यह चेहरे (95% मामलों में), और हाथों की हथेलियों और पैरों के तलवों (75% मामलों में) को प्रभावित करता है। मौखिक श्लेष्मा झिल्ली (70% मामलों में), जननांग (30%), और कंजंक्टिवा (20%), साथ ही कॉर्निया भी प्रभावित होते हैं। दाने मैक्यूल्स (एक सपाट आधार वाले घाव) से पैप्यूल्स (थोड़ा उभरे हुए फर्म घाव), वेसिकल्स (स्पष्ट तरल पदार्थ से भरे घाव), पस्ट्यूल (पीले रंग के तरल पदार्थ से भरे घाव), और क्रस्ट जो सूख कर गिर जाते हैं, से क्रमिक रूप से विकसित होते हैं। घावों की संख्या कुछ से कई हजार तक भिन्न होती है। गंभीर मामलों में, घाव तब तक जमा हो सकते हैं जब तक कि त्वचा का बड़ा हिस्सा ढीला न हो जाए।

मंकीपॉक्स आमतौर पर 2 से 4 सप्ताह तक चलने वाले लक्षणों के साथ एक स्व-सीमित बीमारी है। गंभीर मामले आमतौर पर बच्चों में अधिक होते हैं और Virus के जोखिम की सीमा, रोगी के स्वास्थ्य की स्थिति और जटिलताओं की प्रकृति से संबंधित होते हैं। हालांकि चेचक के खिलाफ टीकाकरण अतीत में सुरक्षात्मक था, आज 40 से 50 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति (देश के आधार पर) बीमारी के अधिक संवेदनशील हो सकते हैं। मंकीपॉक्स की जटिलताओं में माध्यमिक संक्रमण (secondary infection), ब्रोन्कोपमोनिया (Bronchopneumonia), सेप्सिस (sepsis), एन्सेफलाइटिस (encephalitis)और दृष्टि की हानि के साथ कॉर्निया का संक्रमण (corneal infection) शामिल हो सकते हैं।

सामान्य आबादी में मंकीपॉक्स का मामला मृत्यु अनुपात ऐतिहासिक रूप से 0 से 11% तक रहा है । और छोटे बच्चों में अधिक रहा है। हाल के दिनों में, मृत्यु दर का अनुपात लगभग 3-6% रहा है।

मंकीपॉक्स का इलाज कैसे करें How to Treat Monkeypox

Monkeypox Vaccination – वर्तमान में, Monkeypox Virus के संक्रमण के लिए कोई विशिष्ट उपचार स्वीकृत नहीं है। हालांकि, चेचक और अन्य स्थितियों के इलाज के लिए कई एंटीवायरल दवाएं ( antiviral drugs ) हैं जो मंकीपॉक्स संक्रमण ( Monkeypox Infection ) वाले रोगियों की मदद कर सकती हैं

Monkeypox जानवरों से मनुष्यों में कैसे फैलता है (How monkeypox spread to humans)

जब किसी व्यक्ति का शरीर मंकीपॉक्स से संक्रमित किसी जानवर के संपर्क में आता है, तो वह मंकीपॉक्स से संक्रमित (monkeypox symptoms in humans )हो जाता है। इन में प्रमुख रूप से रोडेंट- चूहे व गिलहरी आदि व प्राइमेट्स – बंदर आदि शामिल हैं। इसलिए असुरक्षित रूप से बीमार और मृत जानवरों के संपर्क में न आना ही  मनुष्यों में मंकीपॉक्स को फैलने से बचा सकता है। 

इसलिए खासतौर पर जहां मंकीपॉक्स स्थानिक बीमारी है, वहां कोई भी ऐसा खाद्य पदार्थ खाना जिसमें जानवरों का मांस या उनके शरीर का अन्य कोई हिस्सा है, मंकीपॉक्स होने के खतरे का बहुत हद तक बढ़ा सकता है।

मंकीपॉक्स का इलाज ( Monkeypox Treatment in Hindi )-

मंकीपॉक्स एक ऐसा Viral Infection है, जो आमतौर पर बिना इलाज के अपने आप ही ठीक हो जाता है और इसलिए ऐसे मामलों में इलाज की आवश्यकता ही नहीं पड़ती है। हालांकि, इसके कारण त्वचा पर बनने वाले चकत्तों की पूरी तरह से देखभाल करना बेहद जरूरी है। संभव हो तो त्वचा के चकत्तों व घावों को ढक कर रखें।

परंतु मुंह या आंख पर बने किसी भी घाव , छाले को छूएं नहीं । ऐसी स्थितियों में डॉक्टर से सलाह लेकर MouthWash और Eye Drop  का इस्तेमाल करें। 

हालांकि, Monkeypox  के प्रति रोकथाम के लिए स्मॉलपॉक्स (Smallpox) की कुछ वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा है, एमवीएन-बीएन (MVN-BN) शामिल हैं। हालांकि, अभी यह वैक्सीन व्यापक रूप से उपलब्ध नहीं है और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) वैक्सीन निर्माता कंपनियों के साथ मिलकर इस पर काम कर रहा है।

मंकीपॉक्स का क्या कारण है? Causes of Monkeypox 

मंकीपॉक्स, मंकीपॉक्स Virus के कारण होता है, एक Double-Stranded DNA virus। CDC के अनुसार, वायरस अन्य Pox वायरस से निकटता से संबंधित है जैसे:

  •  वैक्सीनिया vaccinia (चेचक के टीके के लिए प्रयुक्त)
  •  वेरियोला मेजर और माइनर Variola Major and Minor (जिससे चेचक होता है)
  •  चेचक वायरस smallpox virus

वायरस मुख्य रूप से पश्चिम और मध्य अफ्रीका के उष्णकटिबंधीय वर्षावन क्षेत्रों में पाया जाता है। वायरस  को सबसे पहले बंदी-बंदरों में पहचाना गया था। दो उप-प्रकार के वायरस Congo Basin और West African Clade हैं जो भौगोलिक क्षेत्रों से मेल खाते हैं।

बंदरों के साथ,गैम्बियन पाउच वाले चूहों और अफ्रीकी गिलहरियों में भी वायरस की पहचान की गई थी।  भोजन के रूप में इन जानवरों का उपयोग मनुष्यों में संचरण का एक महत्वपूर्ण स्रोत हो सकता है।

ये भी पढ़ें:

Hey, I'm Naushad a professional blogger and web developer. I like to gain every type of knowledge that's why i have done many courses in different fields like Computer Science, Business and other Technologies. I love thrills and travelling to new places and hills.

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *